अधिकारियों की शक्तिया एवं  कर्तव्य

अध्यक्ष/संचालक(छावनी बोर्ड)बोर्ड के कार्यकारी और वित्तीय प्रशासन का पर्यवेक्षण करते हैं |

मुख्य कार्यकारी अधिकारी बोर्ड के सदस्य सचिव है और वे प्रतिदिन का प्रशासनिक कार्य एवं पूरे कार्यबल का पर्यवेक्षण करते हैं तथा वे प्रशासन के सभी पहलुओं पर निर्णय लेते हैं | बोर्ड के कर्मचारी पु.अ.अ. के प्रति जवाबदेह हैं |

निर्णयन

छावनी द्वारा सभी नीतिगत फैसले आमतौर पर महीने में एक बार आयोजित साधारण बोर्ड की बैठक में लिया जाता है तथा आवश्यकता पड़ने पर विशेष रूप से आयोजित बोर्ड की बैठक में सर्वसम्मति या बहुमत से फैसला लिया जाता है |

नियम,विनियमन,मैन्युअल आदि

छावनी बोर्ड में निम्न विधियाँ लागू हैं

  • छावनी अधिनियम २००६
  • छावनी लेखा संहिता १९२४
  • छावनी निधि सेवक अधिनियम १९३७
  • छावनी संपति अधिनियम १९२५
  • छावनी भूमि प्रशासन (अनधिकृत कब्जे की बेदखली) १९३७
  • सार्वजनिक परिसर (अनधिकृत कब्जे की बेदखली) अधिनियम, 1971.
  • छावनी निर्वाचक नियमावली २००७
  • इसी तरह के अन्य कार्य/नियम, अधिसूचना, कार्यकारी आदेश, निर्देष, आदि जो कि भारत सरकार द्वारा समय-समय पर छावनी के प्रशासन के लिए जारी किया जाता है |
  • छावनी अधिनियम के प्रावधानों के तहत बनाये गये उपनियम

परिषद, परिषदें , समिति, उप-समिति

छावनी अधिनियम और संबंधित उपनियम निम्नलिखित प्रदान करते हैं

  • छावनी बोर्ड निर्वाचित और नामित सदस्यों से निर्मित है |
  • सिविल क्षेत्र समिति
  • वित्त्समिति
  • बोर्ड के उप समिति